Ticker

6/recent/ticker-posts

Ad Code

देश विरोधी ताकतों का देश विभाजन का षड्यंत्र

 तीन कृषि कानूनों को किसान विरोधी बताते हुए देश भर के किसान आज लगातार 46 वे दिन भी आंदोलन कर रहे है। किसान आंदोलन के मध्य कितनी ही बार देश विरोधी गतिविधियों की सुगबुगाहट हुई है,जो पूरे देश के सामने है।

 

आज (13 जनवरी) को प्रतिबंधित खालिस्तानी ग्रुप सिक्ख फ़ॉर जस्टिस (SFJ) समर्थित एक वेबसाइट से घोषणा हुई कि यदि आंदोलन कर रहे पंजाब के किसान में से कोई 26 जनवरी(गणतन्त्र दिवस) को इंडिया गेट पर खालिस्तानी झंडा फहराते है तो उन्हें SFJ द्वारा ढाई लाख डॉलर ईनाम राशि दी जाएगी। सरकार ने तुरंत एक्शन लेते हुए इस वेबसाइट को बैन कर दिया है।


 

अब तक किसान आंदोलन को लेकर सरकार और किसानों के मध्य 8 दौर की वार्ता हो चुकी है और अगले दौर की वार्ता 15 जनवरी को होनी है। इसके बीच 12 जनवरी को सुप्रीमकोर्ट ने कृषि कानूनों को लागू करने पर अस्थायी रोक लगाई है और 4 सदस्य समिति का गठन किया है, लेकिन किसान सगठनों ने समिति के सामने उपस्थित नही होने की बात की है। 

 

किसान सगठनों द्वारा आज लोहड़ी के पावन पर्व पर कृषि कानूनों की प्रतियां जलाने का ऐलान किया गया है।इसके साथ ही 26 जनवरी को शांतिपूर्ण ट्रेक्टर मार्च करने का ऐलान बहुत पहले ही कर चुके है।

टिप्पणी पोस्ट करें

0 टिप्पणियां